Uncategorized

Post Doctoral Journey

POST-DOCTORAL JOURNEY OF 25 YEARSFeeling Happy and recalling the(25 years’ ago) August 18, 1994 (Thursday); Ph.D. awarded to me.❇शुक्लवर्ण वाली, संपूर्ण चराचर जगत् में व्याप्त, आदिशक्ति, परब्रह्म के विषय में किए गए विचार एवं चिंतन के सार रूप परम उत्कर्ष को धारण करने वाली, सभी भयों से भयदान देने वाली, अज्ञान के अँधेरे को मिटाने वाली, हाथों में वीणा, पुस्तक और स्फटिक की माला धारण करने वाली और पद्मासन पर विराजमान् बुद्धि प्रदान करने वाली, सर्वोच्च ऐश्वर्य से अलंकृत, भगवती शारदा (सरस्वती देवी) की मैं वंदना करता हूँ॥❇

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *